Yakshini Sadhna

Hereby is the conversation detail of Lord Shiva and Mahamuni Duttatreye.
Shiva said-“Mahamuni Duttatreye!Listen care fully the procedure of yakshini sadhna, by performing mere simple chanting and process all desires of human being are fulfilled”.
Time: when Brihaspati (Jupiter) and Shukra (Venus) are not astha as per panchang one could see. And it’s a poornima of Ashada masa . when moon is powerfull one can start from Pratipada till completion of one month.
Place: Complete silence and on or below Bilva vriksha tree.
Prior to sadhna: Pacify and make lord shiva happy by performing 5000 japas of Mahamrityunjaya Mantras. Than do the request invitation of Lord Kubera as well.
Rudra Puja by shodashopchar before mrityunjaya mantra chanting.
Yaksharaj Kuber Nivedana Puja:
“OM YAKSHRAJ NAMASTUBHYAM SHANKAR PRIYAH BANDHAVAH
EKAM ME VASHMAM NITYAM YAKSHINIM KURUTE NAMAH”
Kuber Prayog:
“ITHI MANTRAM KUBERASYA JAPED..ASHTOTTARAM SHATAM
BRIHMACHARYEN MOUNEN HAVISHYASHI BHAVEDDIVA”
Means: lord kubera, just give a yakshini for me. I worship you and chant your mantra.
108 kubera mantra chanting as above. Total brihmmacharya and satvik food during total sadhna period of 1 month.
Now comes the time of Yakshini Puja
Keep different types of food as per your need of a particular character yakshini.
Start chanting 30 malas per night , of following yakshini mantra:
“OM HREEM KLEEMg AIMg SHREEM MAHAYAKSHINYEYE SARVESHWAR PRADATREYE NAMAH”
During sadhana time of one month sadhak should offer food to three virgin girl children.
Yakshini on being invited in form of SurSundari
Same procedure as above. Dhoop should be of guggle and always keep water solution of sandal powder with you.Chanting should be done in all three vital sandhyas. And total mantras to be chanted during sadhna are 1000.
Mentionable: If a sadhak starts his sadhna with an assumption of acceptance of yakshini as sister, she will give you some extra utilities clothing..if as mother some vital dravya she gives and if as a wife than she fulfills all your desires of wealth, pleasure etc.
But one must strictly remain away from intercourse and even such ideas for any other female

Advertisements

Mahamritunjay mantra meaning in Hindi

महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ

ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्. उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मा मृतात्

“समस्‍त संसार के पालनहार, तीन नेत्रो वाले शिव की हम अराधना करते है, विश्‍व मे सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव, मृत्‍यु न कि मोक्ष से हमे मुक्ति दिलाएं”

त्रि – ध्रववसु प्राण का घोतक है जो सिर में स्थित है।

यम – अध्ववरसु प्राण का घोतक है, जो मुख में स्थित है।

ब – सोम वसु शक्ति का घोतक है, जो दक्षिण कर्ण में स्थित है।

कम – जल वसु देवता का घोतक है, जो वाम कर्ण में स्थित है।

य – वायु वसु का घोतक है, जो दक्षिण बाहु में स्थित है।

जा- अग्नि वसु का घोतक है, जो बाम बाहु में स्थित है।

म – प्रत्युवष वसु शक्ति का घोतक है, जो दक्षिण बाहु के मध्य में स्थित है।

हे – प्रयास वसु मणिबन्धत में स्थित है।

सु -वीरभद्र रुद्र प्राण का बोधक है। दक्षिण हस्त के अंगुलि के मुल में स्थित है।

ग -शुम्भ् रुद्र का घोतक है दक्षिणहस्त् अंगुलि के अग्र भाग में स्थित है।

न्धिम् -गिरीश रुद्र शक्ति का मुल घोतक है। बायें हाथ के मूल में स्थित है।

पु- अजैक पात रुद्र शक्ति का घोतक है। बाम हस्तह के मध्य भाग में स्थित है।

ष्टि – अहर्बुध्य्त् रुद्र का घोतक है, बाम हस्त के मणिबन्धा में स्थित है।

व – पिनाकी रुद्र प्राण का घोतक है। बायें हाथ की अंगुलि के मुल में स्थित है।

र्ध – भवानीश्वपर रुद्र का घोतक है, बाम हस्त अंगुलि के अग्र भाग में स्थित है।

नम् – कपाली रुद्र का घोतक है । उरु मूल में स्थित है।

उ- दिक्पति रुद्र का घोतक है । यक्ष जानु में स्थित है।

र्वा – स्था णु रुद्र का घोतक है जो यक्ष गुल्फ् में स्थित है।

रु – भर्ग रुद्र का घोतक है, जो चक्ष पादांगुलि मूल में स्थित है।

क – धाता आदित्यद का घोतक है जो यक्ष पादांगुलियों के अग्र भाग में स्थित है।

मि – अर्यमा आदित्यद का घोतक है जो वाम उरु मूल में स्थित है।

व – मित्र आदित्यद का घोतक है जो वाम जानु में स्थित है।

ब – वरुणादित्या का बोधक है जो वाम गुल्फा में स्थित है।

न्धा – अंशु आदित्यद का घोतक है । वाम पादंगुलि के मुल में स्थित है।

नात् – भगादित्यअ का बोधक है । वाम पैर की अंगुलियों के अग्रभाग में स्थित है।

मृ – विवस्व्न (सुर्य) का घोतक है जो दक्ष पार्श्वि में स्थित है।

र्त्यो् – दन्दाददित्य् का बोधक है । वाम पार्श्वि भाग में स्थित है।

मु – पूषादित्यं का बोधक है । पृष्ठै भगा में स्थित है ।

क्षी – पर्जन्य् आदित्यय का घोतक है । नाभि स्थिल में स्थित है।

य – त्वणष्टान आदित्यध का बोधक है । गुहय भाग में स्थित है।

मां – विष्णुय आदित्यय का घोतक है यह शक्ति स्व्रुप दोनों भुजाओं में स्थित है।

मृ – प्रजापति का घोतक है जो कंठ भाग में स्थित है।

तात् – अमित वषट्कार का घोतक है जो हदय प्रदेश में स्थित है।

जिस प्रकार मंत्रा में अलग अलग वर्णो (अक्षरों ) की शक्तियाँ हैं । उसी प्रकार अलग – अल पदों की भी शक्तियॉं है।
त्र्यम्‍‍बकम् – त्रैलोक्यक शक्ति का बोध कराता है जो सिर में स्थित है।
यजा- सुगन्धात शक्ति का घोतक है जो ललाट में स्थित है ।
महे- माया शक्ति का द्योतक है जो कानों में स्थित है।
सुगन्धिम् – सुगन्धि शक्ति का द्योतक है जो नासिका (नाक) में स्थित है।
पुष्टि – पुरन्दिरी शकित का द्योतक है जो मुख में स्थित है।
वर्धनम – वंशकरी शक्ति का द्योतक है जो कंठ में स्थित है ।
उर्वा – ऊर्ध्देक शक्ति का द्योतक है जो ह्रदय में स्थित है ।
रुक – रुक्तदवती शक्ति का द्योतक है जो नाभि में स्थित है।
मिव रुक्मावती शक्ति का बोध कराता है जो कटि भाग में स्थित है ।
बन्धानात् – बर्बरी शक्ति का द्योतक है जो गुह्य भाग में स्थित है ।
मृत्यो: – मन्त्र्वती शक्ति का द्योतक है जो उरुव्दंय में स्थित है।
मुक्षीय – मुक्तिकरी शक्तिक का द्योतक है जो जानुव्दओय में स्थित है ।
मा – माशकिक्तत सहित महाकालेश का बोधक है जो दोंनों जंघाओ में स्थित है ।
अमृतात – अमृतवती शक्तिका द्योतक है जो पैरो के तलुओं में स्थित है।

शक्ति षट्कात्म क अर्थ
त्र्यम्ब कम् – सर्वज्ञशक्ति ।
यजामहे – नित्यक तृप्ति ।
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् – अनादि बोधित शक्ति ।
उर्वारुकमिव बन्ध्नात् – स्वोतंत्रता शक्ति।
मत्योरर्मुक्षीय – नित्यनभलप्ता शक्ति।
मामृतात – अचित्यी अनन्ति शक्ति।

चारों चरणों का अर्थ

त्र्यम्बशकं यजामहे – अम्बिका शक्ति सहित त्र्यम्ब केश का द्योतक है जो पूर्व दिशा में प्रवाही शक्ति में स्थित है ।

सुगन्धि पुष्टि वर्धनम – वामा शक्ति सहित मृत्यु्जय का द्योतक है जो दक्षिण दिशा में प्रवाही शक्ति में स्थित है ।

उर्वारुकमिव बन्ध नात् – भीमा शक्ति सहित महादेवेश का द्योतक है जो पश्चिम में प्रवाहित शक्ति में स्थित है ।

मृत्योर्मुक्षीय मामृतात- द्रीपदी शक्ति सहित संजीवनीश का द्योतक है जो उत्त र दिशामें प्रवाहित शक्ति में स्थित है।
इस तरह चारों दिशाओं मे यह मंत्रा करता है।

Black Magic Protection Talisman Kavach

black magic

Black magic is a kind of magic which involves rituals which invokes evil spirits and negative forces which causes harm, destruction or misfortune. Due to hostility, envy and preconceptions people use Black-Magic against each other. The person who becomes victim of this disaster remains marked by anxious uneasiness or trouble or grief. These Negative energies can have a very distressing effect on a person’s education and career, working or professional life, business, physical and mental health. Economic condition of the person affected by evil spells is ruined, faces lots of financial and mental strains due to which his health sees a sudden or gradual deterioration. After an unspecified period of time or an especially long delay if not treated with proper tantra rituals the effects of Black Magic intensify. It starts resembling an incurable disease and can drive the person towards self destruction or leads him to a mysterious end.

black magic 1

Black magic is a dark art that is used by people who want to achieve their evil goals by controlling the powers of nature. In most cases such goals contain an evil intention which harms innocent people. The power of black magic spells is quite impressive and may be too dangerous for a common, non-prepared person to fight against it. It can be used to put a hex on someone, break someone’s health, influence fertility, drive someone crazy or even cause a mental disorder. The spell caster is usually an envious, deeply offended person blinded by rage who does not realize that black magic spells can be reversible.

When fighting against black magic, one should always try all available methods because every particular case is unique and different methods can help.

If things are really serious and may endanger someone’s health and life, one should ask for professional help. Some people that acquired the necessary knowledge of Energy Healing can practice it for the good of others by taking away black magic spells and the evil eye. Spiritual magic is a potent force that neutralizes the effects of the worst black magic spells. A special sacred ritual that clears the person of dark forces can be conducted. This method is the most effective one and works almost in 100% cases. Usually the result of such a ritual is noticeable in less than a few hours, the same day. The patient will feel relieved, anxiety-free and light-hearted. One of the possible aftereffects, however, is that the person who cast the black magic spell at the first place may start experiencing the same symptoms that the victim did. It is strongly recommended not to contact or let the spell caster into your house if you know who that person is until he/she feels better too.

What exactly happens with the black magic victim?

Generally, the things which happen with a black magic victim can happen with an average person also; therefore, it is hard to find whether a person is a victim or not. As most of the people do not believe in black magic, it is hard to detect it at an early stage. Black magic does not directly harm the victim, but it creates problems and enemies in the victim’s life, which will harm him/her.

Age group 0-14:

The victim might often fall sick, unnecessary irritation, fighting with everybody, lack of attention in school, illness does not get cured with medicines, might develop bad habits like watching porns, smoking, and even drinking alcohol.

Age group 14-50:

Misunderstandings with friends and relatives, women will get attracted towards the victim and their husbands or other close people will become enemies of the victim, breakups in love, everybody around you will be treacherous, victim might get involved in extramarital affairs, start drinking excessive alcohol, excessive smoking, or other form of abuse, loss of employment, severe financial problems, suicidal ideations, illnesses like kidney stones, hypothyroidism, depression, etc.

Age group 50 and above:

Different illnesses like diabetes, heart or kidney disorders, or others, irritation, fights with family members and others.

Dark magic is at its peak on Full-moon and No-moon days (Pournima and Amavasya). Hence, the victim should be cautious on these days.

Symptoms Of Black Magic or Kala Jadu or Kiya Karaya

Havoc of Jadu tona or black magic has an emotional or cognitive impact upon the mind and thoughts of the victim. Individuals victimised of kala jadu, kiya karaya etc is deprived of self-will & intellectual energy and has no desire to live or progress in life.

Black magic acts as a barricade on person’s wisdom and intelligence and makes all of his efforts to lead a normal life, go in vain. One feels a mental block, gets disturbed sleep with bad dreams, and negative thoughts. There is heaviness and weight on the heart and constriction in the throat. Sometime blue marks appear on body, faster & erratic heartbeat and breathing without any physical exertion, quarrels in the family without any reason, feeling of the presence of somebody in the house, feeling suffocated & restless in all circumstances, depression with lack of enthusiasm or desire to live & rise in life.

List Of Ill Effects Of Black Magic

One could potentially be the target of black magic without even knowing it. Generally black magic is not detected unless it becomes life threatening and takes a form of an incurable disease. Following are some of the ill effects of black magic on individuals

Repetitive and unusual deaths in the family.
Problems related to evil spirits
Self-destructive tendencies.
Unknown enemies and continuous opposition
Prolonged illness of family members.
Dispute between the family members.
Childlessness without any medical reason.
Repeated miscarriages or unnatural death of the children.
Troubles in the construction of house, factory or any other building.
Life seems useless. No desire to rise in life.
Loss of peace due to the fear of enemies and their evil designs.
Facing Continuous Loss in the business.
Whenever you face above mentioned problems or situations, feel assured that someone has used Kala Jadoo or Black Magic on you, as a result of which all your efforts become ineffective.

How to Protect yourself from Black Magic – Powerful Suraksha Kavach

Suraksha kavach for black magic protection or to ward off evil spirits, any kind of jadu tona is prepared by Spiritual Healers after performing deep meditations. This energy which is gained through deep and intense meditation when used acts as a suraksha kavach which protects from all ill-effects of Black magic, Evil spells, Curses, Ghosts and Spirits. Special protection is obtained from this suraksha kavach from any form of jadu-tona-kiya-karaya problems.

Our Suraksha Kavach is energised with exceptional energy and remarkable power that can safeguard and act as a shield from danger, injury, destruction, or damage etc. Suraksha kavach prepared by deep and intense meditation fights against and resists strongly super-natural forces, negative powers and provides immunity to the individual. Suraksha Kavach provided by us helps in protecting from malefic planetary positions and their ill effects

How are your Yantra Talisman Raksha Kavach Different From The Readymade Ones Available ?

An authentic Talisman cannot be readymade or pre-made. Only a personalized and custom-made Talisman is effective and gives the desired results. One is able to derive Real benefit only from Talismans made specially for the person who has to use them.

All Raksha Kavach Are Energized or Abhimantrit as per TANTRIC Rituals with Mantras. Complete Puja Method will be sent with each order, to establish this Kavach for the desired benefit.

All our Talismans are personalized, and made specifically as per his/her personal information and birth details. It takes 3 days for each Talisman to be made

Size : 2×2 Inches

Ideal For : Keeping In Wallet / Purse / Pocket / Vehicle / Home

Delivery Time : 5 To 7 Days

Order Now

Black Magic Symptoms / Effects

If you face any of these symptoms EVERY DAY then you are also suffering from black magic.

Here are some of the basic harms that is inflicted upon people using black magic

  1. Blocked income
    Destroying someone’s career
    Bad luck
    Bad dreams
    Breaking a relationship or destroying someone’s marriage , causing to separate or divorce
    Controlling someone’s mind for sex
    Making the victim indulge in vices like alcohol, substance abuse, violence and unhealthy sex.
    Causing accidents
    Making people sick
    Anger & emotional imbalance
    Fear
    Not allowing the victim to sleep
    Depression
    Making the victim commit suicide
    Blocking a woman’s monthly periods
    Blocking a woman’s ability to conceive
    Rape of women in dreams by the spirits, where the orgasm is real
    Paranormal activity is experienced by the victims of black magic, this is done to terrorize weak minded humans
    Kill people by giving them a heart attack, kidney failure and activating cancer in the victim’s body
    There is a whole lot that can be inflicted upon people using black magic and the spirit world and it all depends upon the power of the black magicians
  2. 1) If someone sees motion or urine in his dream or see himself in bathroom or with the motion attached to his body, see himself/herself in unhygienic condition.
    2) Headache.
    3) The whole body is in pain.
    4) The one wishes or wants to have sex.
    5) Back-ache or has pain in kidneys
    6) Smelly fats.
    7) Feels like the body is on fire.
    8) The whole body remains hot and so does the mouth.
    9) Eyes remain red and feels irritation in eyes.
    10) You feel to go to the bathroom after a little while for urine and motion.
    11) Fast heat beats.
    12) Difficulty in breathing and have chest pain.
    13) Become irritant.
    14) Face complexion changes and becomes darker day by day. The more worse the magic is the more your complexion will become darker.
    15) Feel pain in stomach and you will be having diarrhea like stiuation.
    16) Pimples appear on the face.
    17) Face becomes terrible no attraction left in the face.
    18) Feeling anxiety.
    19) Becomes impatient.
    20) You have all the happiness in life but still you don’t feel happy.
    21) Whatever you eat you feel hungry again in about an hour and a half.
    22) You don’t wish to offer prayer and day by day you go away from religion.
    23) Always you have throat problem and the voice quality is also affected.
    24) Get scared in dreams. sometimes sees snakes, spiders, lizards, and cockroaches in dream.
    25) You have fear in your heart.
    26) Feels like some one injecting pins in body.
    27) Get pain in stomach and feel nausea.
    28) Become lazy and sleep for longer durations.
    29) You forget where you put things and spend rest of the day in finding. in money transactions give more money.
    30) Starts hating your self.
    31 Seeing blue or pink dots or seeing funny lines
    32 Feeling tired without any reason
    33 By reading or hearing the quran do you get pain in your body
    34 Feeling sick and hot
    35 Always having a erection
    36 Twitching of body parts and soreness of muscles
    37 Hands and feet turn swollen
    38 Spots on the head
    39 Strong smell in your urine
    40 When you cook a lot does a bad smell come
    41 Body feels cold
    42 Pain in the feet
    43 Seeing dogs and dead people as well as ants in your dream
    44 Going skinny day by day
    45 Taking medicine which works at the beginning then starts giving you more problems
    46 Seeing a women and man having sex meaning a wet dream
    47 Body head and shoulders feeling heavy
    48 Getting marks on your body
    49 Body feels weak for no reason
    50 Feeling dizzy and blacked out
    51 Getting red spots on the body
    52 on hearing the azan you run away and you hate the azan

Black Magic Sex

Different types of magic has different symptoms but the one I wrote before are also present. Now this is upon the magician what sort of pain he wants to give to the victim.

For example if magician wants to make some girl disrespectful in society and wants to make her parents ashamed in society. Then he will do that kind of magic that increases her sex appeal and then starts controlling her mind with his magic.

He will do such magic that makes her heart willing to do sex.

He will make her body hot so that she becomes hot.

He will do such magic that makes her stop thinking then do this that she will be away from offering

Prayers and quran because offering prayers and reciting quran breaks magic.

This is the magic of sex this is mainly done because off jealouse

In this kind of situation the girls mind stops working the only thought she has in mind is having sex and she doesn’t know what is happening with her she always thinks about this and atlast she does this with someone. this is the magic of sex.

If you face any of these symptoms EVERY DAY then you are also suffering from black magic.

1) If someone sees motion or urine in his dream or see himself in bathroom or with the motion attached to his body, see himself/herself in unhygienic condition.

2) Headache.

3) The whole body is in pain.

4) The one wishes or wants to have sex.

5) Back-ache or has pain in kidneys

6) Smelly fats.

7) Feels like the body is on fire.

8) The whole body remains hot and so does the mouth.

9) Eyes remain red and feels irritation in eyes.

10) You feel to go to the bathroom after a little while for urine and motion.

11) Fast heat beats.

12) Difficulty in breathing and have chest pain.

13) Become irritant.

14) Face complexion changes and becomes darker day by day. The more worse the magic is the more your complexion will become darker.

15) Feel pain in stomach and you will be having diarrhea like stiuation.

16) Pimples appear on the face.

17) Face becomes terrible no attraction left in the face.

18) Feeling anxiety.

19) Becomes impatient.

20) You have all the happiness in life but still you don’t feel happy.

21) Whatever you eat you feel hungry again in about an hour and a half.

22) You don’t wish to offer prayer and day by day you go away from religion.

23) Always you have throat problem and the voice quality is also affected.

24) Get scared in dreams. sometimes sees snakes, spiders, lizards, and cockroaches in dream.

25) You have fear in your heart.

26) Feels like some one injecting pins in body.

27) Get pain in stomach and feel nausea.

28) Become lazy and sleep for longer durations.

29) You forget where you put things and spend rest of the day in finding. in money transactions give more money.

30) Starts hating your self.

31 Seeing blue or pink dots or seeing funny lines

32 Feeling tired without any reason

33 By reading or hearing the quran do you get pain in your body

34 Feeling sick and hot

35 Always having a erection

36 Twitching of body parts and soreness of muscles

37 Hands and feet turn swollen

38 Spots on the head

39 Strong smell in your urine

40 When you cook a lot does a bad smell come

41 Body feels cold

42 Pain in the feet

43 Seeing dogs and dead people as well as ants in your dream

44 Going skinny day by day

45 Taking medicine which works at the beginning then starts giving you more problems

46 Seeing a women and man having sex meaning a wet dream

47 Body head and shoulders feeling heavy

48 Getting marks on your body

49 Body feels weak for no reason

50 Feeling dizzy and blacked out

51 Getting red spots on the body

52 on hearing the azan you run away and you hate the azan

Shiva mantra yantra tantra sadhna in hindi

शव साधना.

तंत्र के नाथ शाखा मे कापालिक सम्प्रदाय के तांत्रिक शव-साधना मे पारंगत होते है,येसे ही एक तांत्रिक महाकाल भैरवानन्द सरस्वती जी है,उनकी उम्र ९० साल की है परंतु वो आज भी 30-40 वर्ष उम्र के दिखाई पडते है ,और उनका लंबाई 6 फुट,हमेशा काले रंग के वस्त्र धारण करते है,गले मे माँ कामाख्या देवी जी का छोटासा पारद विग्रह रखते है,१९६५ मे अघोर संन्यास लेकर उन्होने तंत्र साधनाये आरंभ की थी,वे ‘सरस्वती नामा’ और हमारे प्यारे सदगुरुजी से दीक्षीत है,उन्होने शव साधना कई बार की है और पूर्ण सफलता भी प्राप्त की है,एक बार मुझे उनके प्यारे शिष्य श्री रूद्रेश्वर भैरवानन्द सरस्वती जी के साथ शव-साधना के बारे मे चर्चा करनेका सौभाग्य मिला और उसी चर्चा मे उन्होने शव साधना का विधि भी बताया,अब गुरुजी के कृपा से सुशिल जी को 7 वर्ष पूर्व उनके आश्रम मे यह अद्वितीय साधना करने का अनुमति मिला था।
प्रक्टिकल साधना विधि जो श्री रूद्रेश्वर भैरवानन्द सरस्वती जी के मुख से सुशिल जी (श्री गोविंदनाथ) ने की है और उसको प्राप्त करके पाठको के लिये यहा दीया जा रहा है। यह साधना प्राप्त करके आज 7 वर्ष पुर्ण हुए है।
यह साधना रात्री काल कृष्ण पक्ष की अमावस्या मे,या कृष्णपक्ष या शुक्लपक्ष की चतुर्दशी और दिन मंगलवार हो तो शव साधना काफी महत्वपूर्ण हो जाती है,शव साधना के पूर्व ही ये जान लेना आवश्यक है के शव किस कोटी का है,क्योकों शव साधना के लिये किसी चांडाल या अकारण गए युवा व्यक्ति (२०-३५) अथवा दुर्घटना से मरे व्यक्ति का शव ज्यादा उपयुक्त मानते है,वृद्ध रोगी येसे लोगो के शव कोई काम मे नहीं आते है।
सर्वप्रथम पूर्व दिशा की ओर अभिमुख होकर ‘फट मंत्र’ पढ़ना है, इसके बाद चारो दिशाए कीलने के लिये पूर्व दिशा मे अपने गुरु, पश्चिम मे बटुक भैरव , उत्तर मे योगिनी और दक्षिण मे विघ्नविनाशक गणेश को विराजमान करने के लिये आराधना करनी है । शमशान की भूमि पर यह मंत्र अंकित करना है-
।। “हूं हूं ह्रीं ह्रीं कालिके घोरदंस्ट्रे प्रचंडे चंडनायिकेदानवान द्वाराय हन हन शव शरीरे महाविघ्न छेदय छेदय स्वाहा हूं फट “।।

इसके बाद तीन बार वीरार्दन मंत्र का उच्चारण करते हुए पुष्पांजलि अर्पित करे (यहा पर वीरार्दान मंत्र नही दे रहा हू,उसे गोपनीय रख है )। इसके उपरांत बड़े विधि-विधान से पूर्वा दिशा मे श्मशानाधिपति, दक्षिण मे भैरव,पश्चिम मे काल भैरव तथा उत्तर दिशा मे महाकाल भैरव की पुजा सम्पन्न कर और काले मुर्गे का बलि प्रदान करे। इसके तुरंत बाद ‘ॐ सहस्त्रवरे हूं फट’ मंत्र से शिखाबंधन करना पड़ेगा । साधक यदि अपनी सुरक्षा करना नहीं जानता तो ‘शव-साधना’ पूरी नहीं हो सकती। इसीलिए आत्मरक्षा के लिये अमोघ मंत्र पढ़ना है-
“हूं ह्रीं स्फुर स्फुर प्रस्फुर घोर घोतर तनुरुप चट चट पचट कह शकह वन वन बंध बंध घतपय घातय हूं फट अघोर मं”

फिर शव के सर के पास खड़े होकर सफ़ेद तिल का तर्पण करना है । परिक्रमा भी करनी है और ‘ॐ फट’ मंत्र से शव को अभिमंत्रित किया। फिर यह मंत्र पढ़ना है‘ॐ हूं मृतकाय नमः फट’और उसे स्पर्श करे , पुष्पांजलि देकर मंत्र पढे-
“ॐ वीरेश प्रमानंद शिवनंद कुलेश्वर, आनंद भैरवाकर देवी पर्यकशंकर। वीरोहं त्वं पप्रधामि उच्चष्ठ चंडिकारतने”
और शव को प्रणाम किरे । ‘ॐ हूं मृतकाय नमः’ मंत्र से प्रक्षालन कर उसे सुगंधित जल से स्नान कराये , शव को वस्त्र से पोंछे,फिर उस पर रक्तचन्दन का लेप किरे’।
मै यहा बता दूँ की सभी क्रियाए शव की सहमति से ही संभव है। रक्तचन्दन के बाद कोई साधक डर भी सकता है और उसकी मृत्यु भी हो सकती है। इस अवस्था मे शव रक्तवर्णी हो जाता है। यदि ऐसा हो रहा हो तो साधक को तत्काल अपनी सुरक्षा मुकम्मल कर लेनी चाहिए अन्यथा शव उसका भक्षण कर सकता है।
अतएव अपने झोले मे से सेव निकाल कर ‘रक्त क्रो यदि देवेशी भक्षयेत कुलसाधकम’ मंत्र पढ़ते हुए शव के मुख मे डाले । फिर ताम्बूल खिलाये । कलोक्त पीठ मंत्र व ‘ॐ ह्रीं फट’ का उच्चारण किरे , इसके बाद शव को कंबल से अच्छी तरह ढँक दे और शव को कमर से उठाये । इतने मे ही आसमान मे बिजली कड़क उठटी है या फिर उठ सकती है । अब यह मंत्र पढे –
‘गत्वा शतश्रु साविघ्यं धारयेत कटिदेशत। यद युपद्रावयेत दा, दयात्रीष्ट्ठीवनं शवे’

यह मंत्र से ही शव शांत हो जाता है । इसके बाद दशों
दिशाओ और दिक्पालों की पुजा करे । फिर अनार का बलि दे । इसके बाद मंत्र पढे ‘ह्रीं फट शवासनाय नमः’। कहकर शव की अर्चना करे । शव को कब्जे मे लेने के लिये उसकी घोड़े की तरह सवारी भी करनी पड़ती है। इसलिए उसकी सवारी भी की जानि चाहिये । सवारी के बाद शव के केशो की चुटिया बांन्धे । फिर अपने गुरु एवं गणपति का ध्यान करे , फिर शव को प्रणाम करे । फिर शव के सम्मुख खड़े होकर यह मंत्र पढे-
अद्ययैत्यादी अमुक गोत्र श्री अमुक शर्मा देवताया: संदर्शनमक्राम: अमुक मन्त्रास्यामुक्त संख्यक जपमहं करिष्ये “ और संकल्प साधे ।
इसके बाद ‘ह्रीं आधार शक्ति कमलासनाय नमः’। मंत्र से आसन की पुजा करे । महाशंख की माला (मनुष्य शरीर की अस्थियों से बनी माला) से जप करना है । फिर मुख मे सुगंधित द्रव्य डालकर देवी का तर्पण करे । तत्पश्चात शव के सामने खड़े होकर-
“ॐ वशे मेभव देवेश वीर सिद्धिम देही देही महाभग कृताश्रय”

परायण मंत्र का पाठ किरे । सूत के द्वारा शव को बांन्धे और मंत्र बोले-
“हुं हुं बंधय बंधय सिद्धिम कुरु कुरु फट”

फिर मूलमंत्र से शव को जकड़ ले-
ॐ मद्रशोभव देवेश तीर सिद्धि कृतास्पद। ॐ भीमभव भचाव भावमोरान भावुक। जहाही मां देव देवेश। शव्नामाधिपदीपः

तीन बार परिक्रमा कर सिर मे गुरुदेव, हृदय मे इष्ट देवी का चिंतन करते हुए महाशंख की माला पर मंत्र का जप करे । सिद्धि के बाद शव की चुटिया खोल दे । शव के पैर खोल दे एवं शरीर को बंधन मुक्त कर दे । शव को नदी मे प्रवाहित कर पुजा सामग्री को भी नदी मे प्रवाहित कर दे । याद रखे कापालिक हमेशा शव साधना मनुष्य की भलाई के लिये ही करता है।
कापालिक’ वही, जो इस दुनिया के दु:खो को अपने कपाल (सिर) पर लिये घूमता है।

यह विधि यहा पे दे रहा हु परंतु इसमे कुछ गोपनीय मंत्र एवं मुद्राये मैंने गुप्त रखी है ,फिर भी अगर कोई यह साधना करना चाहे तो मुजसे संपर्क करके प्राप्त कर सकता है,इस साधना से कई लाभ उटाये जा सकते है।
आजकल फेसबुक,सोशल नेटवर्किंग,व्हाटस् अप,ब्लोगर…..पर बहोत सारे कापालिक तंत्र दीक्षा देने वाले गुरु बन गये है। उनको शव साधना पुछो तो वह पुछनेवाले के मन मे डर पैदा कर देते है तो येसे मुर्खो से बचे। कोइ तारापिठ के नाम पर तो कोइ स्वयंभू कापालिक सम्प्रदाय का गुरु आपको मिल जायेगा जो सिर्फ छोटे-छोटे मंत्र देकर साधकों को मार्ग से भटकायेगा और अंततः वह साधक साधना करना ही छोड़ देगा। यही आजकल के मुर्ख गुरुओ का प्लान है,इससे ज्यादा कुछ लिखने से कोइ सुधारने वाला नही है। शव साधना से पुर्व “शव सिद्धि दीक्षा” प्राप्त करने से साधक बिना शव के भी साधना सम्पन्न कर सकता है क्युके दीक्षा के बाद साधना गिली मिट्टी का शव बनाकर भी कर सकते है। गिली मिट्टी से बने हुए शव के माध्यम से शव सिद्धि करनी हो तो इतना विधि-विधान करने का कोइ आवश्यकता नही है परंतु यह आसान विधान तो तब करना सम्भव है जब “शव सिद्धि दीक्षा” को प्राप्त किया जाये अन्यथा शव साधना शमशान मे शव पर बैठकर ही किया जा सकता हैं।

Mahashivratri kalsurpa Dosa Nevaran In Hindi mantra tantra yantra

महाशिवरात्रि:कालसर्प दोष निवारण.

कालसर्प, अर्थात् सर्प और काल, इसमें भी सर्प योनी के बारे में हमारे शास्त्रों में बहुत वर्णन आया है। गीता में स्वयं भगवान् श्री कृष्ण ने कहा है कि पृथ्वी पर मनुष्य की उत्पत्ति (जन्म) केवल विषय-वासना के कारण ही हुई है। जीव रूपी मनुष्य जैसा कर्म करता है उसी के अनुरूप उसे फल मिलता हैं। विषय -वासना के कारण ही काम-क्रोध, मद-लोभ और अहंकार का जन्म होता है इन विकारों को भोगने के कारण ही जीव को सर्प योनी प्राप्त होती है। कर्मों के फलस्वरूप आने वाली पीढ़ियों पर पड़ने वाले अशुभ प्रभाव को कालसर्प दोष कहा जाता है।
कालसर्प योग
कुंडली में जब सारे ग्रह राहू और केतु के बीच में आ जाते हैं तब कालसर्प योग बनता हैं। ज्योतिष में इस योग को अशुभ माना गया है लेकिन कभी-कभी यह योग शुभ फल भी देता है। ज्योतिष में राहु को काल तथा केतु को सर्प माना गया है राहु को सर्प का मुख तथा केतु को सर्प का पूंछ कहा गया है। वैदिक ज्योतिष में राहु और केतु को छाया ग्रह की संज्ञा दी गई है, राहु का जन्म भरणी नक्षत्र में तथा केतु का जन्म अश्लेषा नक्षत्र में हुआ है। जिसके देवता काल एवं सूर्य है । राहु को शनि का रूप और केतु को मंगल ग्रह का रूप कहा गया है, राहु मिथुन राशि में उच्च तथा धनु राशि में नीच होता है, राहु के नक्षत्र आर्द्रा, स्वाति और शतभिषा है, राहु प्रथम, द्वितीय, चतुर्थ, पंचम, सप्तम, अष्टम, नवम, द्वादस भावों में किसी भी राशि का विशेषकर नीच का बैठा हो, तो निश्चित ही आर्थिक, मानसिक, भौतिक पीड़ायें अपनी महादशा अन्तरदशा में देता हैं। मनुष्य को अपने पूर्व दुष्कर्मों के फलस्वरूप कालसर्प दोष लगता है। उसके जन्म जन्मान्तर के पापकर्म के अनुसार ही यह दोष पीढ़ी दर पीढ़ी चला आता है
कालसर्प दोष
कालसर्प योग मुख्य रूप से 12 प्रकार के होते है जो मनुष्य जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करते हैं। इन सभी योगों का शुभ और अशुभ प्रभाव मनुष्य के जीवन को प्रभावित करता है। ये निम्न प्रकार के है –
अनंत कालसर्प योग –
जब लग्न में राहु और सप्तम भाव में केतु हो और उनके बीच समस्त अन्य ग्रह हों तो अनंत कालसर्प योग बनता है । इस अनंत कालसर्प योग के कारण जातक को जीवन भर मानसिक शांति नहीं मिलती । वह सदैव अशान्त क्षुब्ध परेशान तथा अस्थिर रहता है, बुद्धिहीन हो जाता है। मस्तिष्क संबंधी रोग भी परेशानी पैदा करते हैं।
कुलिक कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के द्वितीय भाव में राहु और अष्टम भाव में केतु हो तथा समस्त ग्रह उनके बीच हों, तो यह योग कुलिक कालसर्प योग कहलाता है।
वासुकि कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के तीसरे भाव में राहु और नवम भाव में केतु हो और उनके बीच सारे ग्रह हों तो यह योग वासुकीकालसर्प योग कहलाता है।
शंखपाल कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के चौथे भाव में राहु और दसवे भाव में केतु हो और उनके बीच सारे ग्रह हों तो यह योग शंखपाल कालसर्प योग कहलाता है।
पद्म कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के पांचवें भाव में राहु और ग्याहरवें भाव में केतु हो और समस्त ग्रह इनके बीच हों तो यह योग पद्म कालसर्प योग कहलाता है।
महापद्म कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के छठे भाव में राहु और बारहवें भाव में केतु हो और समस्त ग्रह इनके बीच कैद हों तो यह योग महापद्म कालसर्प योग कहलाता है।
तक्षक कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के सातवें भाव में राहु और केतु लग्न में हो तथा बाकी के सारे इनकी कैद मे हों तो इनसे बनने वाले योग को तक्षक कालसर्प योग कहते है।
कर्कोटक कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के अष्टम भाव में राहु और दूसरे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को कर्कोटक कालसर्प योग कहते हैं।
शंखनाद कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के नवम भाव में राहु और तीसरे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को शंखनाद कालसर्प योग कहते हैं।
पातक कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के दसवें भाव में राहु और चौथे भाव में केतु हो और सभी सातों ग्रह इनके मध्य में अटके हों तो यह पातक कालसर्प योग कहलाता है।
विषाक्तर कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के ग्याहरवें भाव में राहु और पांचवें भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य में अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को विषाक्तर कालसर्प योग कहते हैं।
शेषनाग कालसर्प योग –
जब जन्मकुंडली के बारहवें भाव में राहु और छठे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को शेषनाग कालसर्प योग कहते हैं।
आप निम्न प्रकार से स्वयं अपनी कुण्डली जांचकर कालसर्प योग की जांच कर सकते हैं। इसी प्रकार यदि सूर्य के साथ राहू की युति बनती है तो पितृदोष बनता है। इन दोषों का प्रभाव जीवन में स्पष्ट दिखाई देता है। ऐसे व्यक्ति प्रयत्न करने पर भी जीवन में सफलता प्राप्त नहीं कर पाते हैं।
आंशिक कालसर्प योग –
जन्म कुण्डली में राहु और केतु के मध्य अन्य सातों ग्रह स्थित होने से पूर्ण कालसर्प दोष होता है। कुछ व्यक्तियों के जन्म चक्र में राहु और केतु के मध्य शेष सातों ग्रह न होकर एक या दो ग्रह बाहर होते है। इस स्थिति में यह आंशिक कालसर्प दोष कहलाता है। इसका प्रभाव भी उतना ही खतरनाक होता है जितना पूर्ण कालसर्प दोष का होता है। यह ध्यान रहे कि यदि शनि, शुक्र और बुध तीनों में से एक भी ग्रह राहु और केतु चक्र से अलग है तो बड़ा ही विचित्र शमनक दोष हो जाता हैं यह दोष भी पितृदोष, कालदोष कहा गया है।

राहु और कालसर्प योग
राहु के गुण -अवगुण शनि जैसे हैं, राहु जिस स्थान में जिस ग्रह के योग में होता है उसका व शनि का फल देता है। शनि आध्यात्मिक चिंतन, विचार, गणित के साथ आगे बढ़ने का गुण अपने पास रखता है, यही गुण राहु के हैं।
राहु का योग जिस ग्रह के साथ है वह किस स्थान का स्वामी है यह भी अवश्य देखना चाहिए। राहु मिथुन राशि में उच्च, धनु राशि में नीच और कन्या राशि में स्वगृही होता है। राहु के मित्र ग्रह – शनि, बुध और शुक्र हैं। राहु के शत्रु ग्रह – सूर्य, मंगल और केतु हैं। चन्द्र, बुध, गुरु उसके समग्रह हैं। कालसर्प योग जिस व्यक्ति की जन्म कुण्डली में है, उसे जीवन में बहुत कष्ट झेलना पड़ता है। इच्छित फल प्राप्ति और कार्यों में बाधाएं आती हैं, बहुत ही मानसिक, शारीरिक एवं आर्थिक कष्ट उठाने पड़ते हैं।
कालसर्प योग से पीड़ित जातक का भाग्य प्रवाह राहु, केतु अवरुद्ध करते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप जातक की प्रगति नहीं होती। उसे जीविका चलाने का साधन नहीं मिलता, अगर मिलता है तो उसमें अनेक समस्याएं पैदा होती हैं। जिससे उसको जीविका चलानी मुश्किल हो जाती है। विवाह नहीं हो पाता। विवाह हो भी जाए तो संतान-सुख में बाधाएं आती हैं।
कालसर्प योग के प्रभाव
कालसर्प योग व्यक्ति के जीवन में भाग्य के प्रवाह को बाधित कर देते हैं, जिसके फलस्वरूप उसके इस जन्म में और पूर्व जन्म में किये गये पाप कर्मों का प्रभाव बढ़ जाता है। एक प्रकार से कालसर्प योग व्यक्ति के जीवन में दुर्भाग्य को बढ़ाता है। मुख्यत ये दुर्भाग्य चार प्रकार के होते हैं –
1. व्यक्ति को उसके परिश्रम का पूर्ण फल प्राप्त नहीं होता, उसके जीवन में निरन्तर धन का अभाव बना रहता है।
2. शारीरिक और मानसिक रूप से दुर्बल बना रहता है। उत्साह की कमी के कारण जीवन बोझ सा व्यतीत होता है।
3. संतान पक्ष से भी कष्ट भोगने पड़ते हैं।
4. गृहस्थ जीवन बहुत अस्त-व्यस्त हो जाता है, पति एवं पत्नि में निरन्तर कलह होता रहता है।
अतः प्रत्येक व्यक्ति को कालसर्प दोष निवारण साधना, मंत्र जप, अभिषेक, तर्पण-दान, पितृदोष मुक्ति, क्रिया एवं शमन क्रिया अवश्य ही सम्पन्न करनी चाहिए।
शास्त्रों में यह भी लिखा है कि यदि आपको अपनी कुण्डली तथा परिवार के सदस्यों की कुण्डली की जानकारी नहीं है तो भी एक बार तो कालसर्प दोष निवारण पूजन अभिषेक परिवार के सभी सदस्यों के लिए अवश्य ही करना चाहिए।

(विशेष:अपना पुर्ण नाम और नया फोटो मेरे ई-मेल blackmagicindia@hotmail.com पर भेजीये,आपको निशुल्क मे कालसर्प दोष निवारण दीक्षा दिया जायेगा । दीक्षा प्राप्त करने के दुसरे दिन दक्षिणा के रुप मे किसी भी गरीब व्यक्ति को कुछ रुपये अपने योग्यता अनुसार दान मे दे दिजीये । अवश्य ही आपको कालसर्प दोष निवारण हेतु शिव जी के आशिर्वाद से मुक्ति मिल सकता है। फोटो आज से लेकर 22/02/2017 तक ही भेजने हैं क्युके 24/02/2017 को महाशिवरात्रि के रात्री मे आपको दीक्षा प्रदान कर दिया जायेगा।)

Are you getting continuous obstacles in your life? Are your children always ill?
Is your family life not peaceful? Do you encounter failure while climbing on steps for success? Is your body always full of diseases and your mind always full of tension?
Kalsarpa, i.e a malefic combination of snake and time; has been described in detail in our holy scriptures. In the Gita, Lord Krishna himself has stated that the origin (birth) of man on earth occurred only because of human sexuality. A person gets the fruits as per the actions which he performs in his life. Yearning-anger, pride-greed and ego are born out of lust-desire, and the creature gets Snake Yoni to experience these vices. Kaalsarp Dosh is the malefic impact on future generations due to flawed actions.

Kalsarpa Yoga
The Kalsarpa Yog is created when all the planets in the horoscope come between Rahu and Ketu. This planetary combination is considered inauspicious in astrology but sometimes it also proves auspicious. In astrology, Rahu is considered as Kaal (Time or Death) and Ketu is considered as a serpant, Rahu is called the mouth and Ketu is called the tail of the serpant. Vedic astrology describes Rahu and Ketu as shadowy planets, Rahu originated in Bharani Nakshatra and Ketu in Ashlesha Nakshatra. The presiding Gods are Kaal and Sun. Rahu has been termed as a form of Saturn planet and Ketu as a form of Mars planet, Rahu is benevolent in Gemini and malevolent in Sagittarius. The constellations of Rahu are Aadra, Swati and Shatbhisha. If Rahu is placed in 1, 2, 4, 5, 7, 8, 9 houses, especially as malefic in any Rashi, then it surely provides economic, mental and physical problems in its Mahadasha Antardasha. A person gets afflicted with Kaalsarp Dosha due to the misdeeds of his past lives. This affliction continues across generations due to his sins in various lives.

Kalsarpa Dosha
There are primarily 12 types of Kalsarpa Yoga which cause a great impact to the person. The Good and bad effects of these formulations affects human life. These types are –
Anant Kalsarpa Yoga-
When Rahu is Lagna and Ketu is in 8 house and all the other planets are between them, then Anant Kalsarpa Yoga gets created. The person doesn’t get any mental peace throughout his life due to Anant Kalsarpa Yoga. He is always upset, distressed, dismayed and disturbed and becomes fatuous. The Neurological diseases also disturb him.
Kulik Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 2 house and Ketu in 8 house and all the other planets are between them, then Kulik Kalsarpa Yoga gets created.
Vasuki Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 3 house and Ketu in 9 house and all the other planets are between them, then Vasuki Kalsarpa Yoga gets created.
Sankhpal Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 4 house and Ketu in 10 house and all the other planets are between them, then Sankhpal Kalsarpa Yoga gets created.
Padma Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 5 house and Ketu in 11 house and all the other planets are between them, then Padma Kalsarpa Yoga gets created.
Mahapadma Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 6 house and Ketu in 12 house and all the other planets are enclosed between them, then Mahapadma Kalsarpa Yoga gets created.
Takshak Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 8 house and Ketu is in the Lagna and all the other planets are imprisoned between them, then Takshak Kalsarpa Yoga gets created.
Karkotaka Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 8 house and Ketu in 2 house and all the other planets are struck between them, then Karkotaka Kalsarpa Yoga gets created.
Shankhnaad Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 9 house and Ketu in 3 house and all the other planets are struck between them, then Shankhnaad Kalsarpa Yoga gets created.
Paatak Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 10 house and Ketu in 4 house and all the other planets are between them, then Paatak Kalsarpa Yoga gets created.
Vishaktr Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 11 house and Ketu in 5 house and all the other planets are struck between them, then Vishaktr Kalsarpa Yoga gets created.
Sheshnaag Kalsarpa Yoga –
When Rahu is in 12 house and Ketu in 6 house and all the other planets are between them, then Sheshnaag Kalsarpa Yoga gets created.
Thus you can yourself check your horoscope to ascertain about Kaalsarpa Yoga. Similarly if Sun gets paired with Rahu then Pitridosh gets created. The effect of these defects is fully visible in the life. Such persons cannot achieve success inspite of various endeavors.
Partial Kalsarpa Yoga –
The location of other seven planets between Rahu and Ketu cause complete Kalsarpa Dosh. In some individuals, instead of all seven, 1 or 2 planets are outside the Rahu-Ketu combination. In this case it is called partial Kalsarpa Dosha. Its impact is as dangerous as that of full Kalsarpa Dosha. Note that if even one of the Saturn, Venus and Mercury, are outside the Rahu-Ketu combination, then this causes a very bizarre destructive defect. This Dosha is also called as Pitridosh Kaaldosh.

Rahu and Kalsarpa Yoga
The properties of Rahu are similar to those of Shani (Saturn); the location and planetary combination of Rahu provides appropriate results like Saturn. Saturn controls spiritual contemplation, consideration, quantitative capabilities, Rahu has similar properties.
One should also consider the fact that Rahu is combined with which planet, and which house is it Lord of. Rahu is benefic in Gemini, malefic in Sagittarius and normal in Virgo. The friendly planets of Rahu are Saturn, Mercury and Venus. The enemy planets of Rahu are Sun, Mars and Ketu. Moon, Mercury and Jupiter are its neutral planets. The person afflicted with Kalsarpa yoga in his horoscope has to undergo tremendous suffering in his life. He gets obstacles in achieving his desired results and actions. He has to undergo very grave mental, physical and economic hardship.
Rahu and Ketu block the fate of a Kalsarpa yoga afflicted native. This results in stoppage of growth and progress of native. He does not obtain any job, even if he gets a job, then multiple problems develop in meeting his livelihood. This makes it very difficult to live his life. Marriage does not take place. If marriage does take place then problems arise in children.
Effects of Kalsarpa Yoga
Kalsarpa yoga blocks the flow of destiny in person’s life, which consequently increases the effects of his sins in this and prior lives. Kalsarpa Yoga thus increases misfortune in person’s life. These misfortunes are of four types –
1. The person does not enjoy the full fruits of his labor in full, there is constant lack of money in his life.
2. The person remains physically and mentally weak. The lack of enthusiasm make life a burden.
3. The person has to bear suffering from the children’s side.
4. The domestic life of the person becomes a mess, there is constant squabble and bickering between the husband and wife.
So each person should definitely accomplish Kalsarpa Dosh Nivarann Sadhana, Mantra-Chanting, Abhishek, Tarpan-Daan, Pitridosh Mukti Kriya and Shaman Kriya.
The holy scriptures even mention that if you are not aware of your and your family members’ horoscope; even then you should definitely accomplish Kalsarp Dosh Nivarann Poojan Abhishek at least once for all family members