Yakshini Sadhna

Hereby is the conversation detail of Lord Shiva and Mahamuni Duttatreye.
Shiva said-“Mahamuni Duttatreye!Listen care fully the procedure of yakshini sadhna, by performing mere simple chanting and process all desires of human being are fulfilled”.
Time: when Brihaspati (Jupiter) and Shukra (Venus) are not astha as per panchang one could see. And it’s a poornima of Ashada masa . when moon is powerfull one can start from Pratipada till completion of one month.
Place: Complete silence and on or below Bilva vriksha tree.
Prior to sadhna: Pacify and make lord shiva happy by performing 5000 japas of Mahamrityunjaya Mantras. Than do the request invitation of Lord Kubera as well.
Rudra Puja by shodashopchar before mrityunjaya mantra chanting.
Yaksharaj Kuber Nivedana Puja:
“OM YAKSHRAJ NAMASTUBHYAM SHANKAR PRIYAH BANDHAVAH
EKAM ME VASHMAM NITYAM YAKSHINIM KURUTE NAMAH”
Kuber Prayog:
“ITHI MANTRAM KUBERASYA JAPED..ASHTOTTARAM SHATAM
BRIHMACHARYEN MOUNEN HAVISHYASHI BHAVEDDIVA”
Means: lord kubera, just give a yakshini for me. I worship you and chant your mantra.
108 kubera mantra chanting as above. Total brihmmacharya and satvik food during total sadhna period of 1 month.
Now comes the time of Yakshini Puja
Keep different types of food as per your need of a particular character yakshini.
Start chanting 30 malas per night , of following yakshini mantra:
“OM HREEM KLEEMg AIMg SHREEM MAHAYAKSHINYEYE SARVESHWAR PRADATREYE NAMAH”
During sadhana time of one month sadhak should offer food to three virgin girl children.
Yakshini on being invited in form of SurSundari
Same procedure as above. Dhoop should be of guggle and always keep water solution of sandal powder with you.Chanting should be done in all three vital sandhyas. And total mantras to be chanted during sadhna are 1000.
Mentionable: If a sadhak starts his sadhna with an assumption of acceptance of yakshini as sister, she will give you some extra utilities clothing..if as mother some vital dravya she gives and if as a wife than she fulfills all your desires of wealth, pleasure etc.
But one must strictly remain away from intercourse and even such ideas for any other female

Mahamritunjay mantra meaning in Hindi

महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ

ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्. उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मा मृतात्

“समस्‍त संसार के पालनहार, तीन नेत्रो वाले शिव की हम अराधना करते है, विश्‍व मे सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव, मृत्‍यु न कि मोक्ष से हमे मुक्ति दिलाएं”

त्रि – ध्रववसु प्राण का घोतक है जो सिर में स्थित है।

यम – अध्ववरसु प्राण का घोतक है, जो मुख में स्थित है।

ब – सोम वसु शक्ति का घोतक है, जो दक्षिण कर्ण में स्थित है।

कम – जल वसु देवता का घोतक है, जो वाम कर्ण में स्थित है।

य – वायु वसु का घोतक है, जो दक्षिण बाहु में स्थित है।

जा- अग्नि वसु का घोतक है, जो बाम बाहु में स्थित है।

म – प्रत्युवष वसु शक्ति का घोतक है, जो दक्षिण बाहु के मध्य में स्थित है।

हे – प्रयास वसु मणिबन्धत में स्थित है।

सु -वीरभद्र रुद्र प्राण का बोधक है। दक्षिण हस्त के अंगुलि के मुल में स्थित है।

ग -शुम्भ् रुद्र का घोतक है दक्षिणहस्त् अंगुलि के अग्र भाग में स्थित है।

न्धिम् -गिरीश रुद्र शक्ति का मुल घोतक है। बायें हाथ के मूल में स्थित है।

पु- अजैक पात रुद्र शक्ति का घोतक है। बाम हस्तह के मध्य भाग में स्थित है।

ष्टि – अहर्बुध्य्त् रुद्र का घोतक है, बाम हस्त के मणिबन्धा में स्थित है।

व – पिनाकी रुद्र प्राण का घोतक है। बायें हाथ की अंगुलि के मुल में स्थित है।

र्ध – भवानीश्वपर रुद्र का घोतक है, बाम हस्त अंगुलि के अग्र भाग में स्थित है।

नम् – कपाली रुद्र का घोतक है । उरु मूल में स्थित है।

उ- दिक्पति रुद्र का घोतक है । यक्ष जानु में स्थित है।

र्वा – स्था णु रुद्र का घोतक है जो यक्ष गुल्फ् में स्थित है।

रु – भर्ग रुद्र का घोतक है, जो चक्ष पादांगुलि मूल में स्थित है।

क – धाता आदित्यद का घोतक है जो यक्ष पादांगुलियों के अग्र भाग में स्थित है।

मि – अर्यमा आदित्यद का घोतक है जो वाम उरु मूल में स्थित है।

व – मित्र आदित्यद का घोतक है जो वाम जानु में स्थित है।

ब – वरुणादित्या का बोधक है जो वाम गुल्फा में स्थित है।

न्धा – अंशु आदित्यद का घोतक है । वाम पादंगुलि के मुल में स्थित है।

नात् – भगादित्यअ का बोधक है । वाम पैर की अंगुलियों के अग्रभाग में स्थित है।

मृ – विवस्व्न (सुर्य) का घोतक है जो दक्ष पार्श्वि में स्थित है।

र्त्यो् – दन्दाददित्य् का बोधक है । वाम पार्श्वि भाग में स्थित है।

मु – पूषादित्यं का बोधक है । पृष्ठै भगा में स्थित है ।

क्षी – पर्जन्य् आदित्यय का घोतक है । नाभि स्थिल में स्थित है।

य – त्वणष्टान आदित्यध का बोधक है । गुहय भाग में स्थित है।

मां – विष्णुय आदित्यय का घोतक है यह शक्ति स्व्रुप दोनों भुजाओं में स्थित है।

मृ – प्रजापति का घोतक है जो कंठ भाग में स्थित है।

तात् – अमित वषट्कार का घोतक है जो हदय प्रदेश में स्थित है।

जिस प्रकार मंत्रा में अलग अलग वर्णो (अक्षरों ) की शक्तियाँ हैं । उसी प्रकार अलग – अल पदों की भी शक्तियॉं है।
त्र्यम्‍‍बकम् – त्रैलोक्यक शक्ति का बोध कराता है जो सिर में स्थित है।
यजा- सुगन्धात शक्ति का घोतक है जो ललाट में स्थित है ।
महे- माया शक्ति का द्योतक है जो कानों में स्थित है।
सुगन्धिम् – सुगन्धि शक्ति का द्योतक है जो नासिका (नाक) में स्थित है।
पुष्टि – पुरन्दिरी शकित का द्योतक है जो मुख में स्थित है।
वर्धनम – वंशकरी शक्ति का द्योतक है जो कंठ में स्थित है ।
उर्वा – ऊर्ध्देक शक्ति का द्योतक है जो ह्रदय में स्थित है ।
रुक – रुक्तदवती शक्ति का द्योतक है जो नाभि में स्थित है।
मिव रुक्मावती शक्ति का बोध कराता है जो कटि भाग में स्थित है ।
बन्धानात् – बर्बरी शक्ति का द्योतक है जो गुह्य भाग में स्थित है ।
मृत्यो: – मन्त्र्वती शक्ति का द्योतक है जो उरुव्दंय में स्थित है।
मुक्षीय – मुक्तिकरी शक्तिक का द्योतक है जो जानुव्दओय में स्थित है ।
मा – माशकिक्तत सहित महाकालेश का बोधक है जो दोंनों जंघाओ में स्थित है ।
अमृतात – अमृतवती शक्तिका द्योतक है जो पैरो के तलुओं में स्थित है।

शक्ति षट्कात्म क अर्थ
त्र्यम्ब कम् – सर्वज्ञशक्ति ।
यजामहे – नित्यक तृप्ति ।
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् – अनादि बोधित शक्ति ।
उर्वारुकमिव बन्ध्नात् – स्वोतंत्रता शक्ति।
मत्योरर्मुक्षीय – नित्यनभलप्ता शक्ति।
मामृतात – अचित्यी अनन्ति शक्ति।

चारों चरणों का अर्थ

त्र्यम्बशकं यजामहे – अम्बिका शक्ति सहित त्र्यम्ब केश का द्योतक है जो पूर्व दिशा में प्रवाही शक्ति में स्थित है ।

सुगन्धि पुष्टि वर्धनम – वामा शक्ति सहित मृत्यु्जय का द्योतक है जो दक्षिण दिशा में प्रवाही शक्ति में स्थित है ।

उर्वारुकमिव बन्ध नात् – भीमा शक्ति सहित महादेवेश का द्योतक है जो पश्चिम में प्रवाहित शक्ति में स्थित है ।

मृत्योर्मुक्षीय मामृतात- द्रीपदी शक्ति सहित संजीवनीश का द्योतक है जो उत्त र दिशामें प्रवाहित शक्ति में स्थित है।
इस तरह चारों दिशाओं मे यह मंत्रा करता है।

Bangal Mohini Mahavidya Sadhna In hindi

बंगाल मोहिनी महाविद्या (प्रत्यक्षिकरण साधना).

जीवन मे आकर्षण है तो सब कुछ है
जीवन मे सौन्दर्य है तो सब कुछ है
जीवन मे सम्मोहन है तो सब कुछ है
जीवन मे वशीकरण है तो सब कुछ है
इसलिये महत्व है इस विशेष विद्या का जिसे कहा गया है
“मोहिनी माहाविद्या”.
मोहिनी जो पत्थर को भी मोहित करने मे समर्थ हो,वह है “बंगाल मोहिनी” जिसे प्रत्यक्ष करना संभव है.जिसके प्रत्यक्षीकरण से तीन वचन प्राप्त किये जा सकते है.मोहिनी भगवान विष्नु जी का एक सुंदर एवं मोहित करने वाला रुप है जो समुद्र मंथन के समय मे उन्होने धारण किया था.मोहिनी ने भगवान शिव जी को इस तराहा से मोहित कर दिया था की उन्हे मोहिनी से प्रेम हो गया.शाबर मंत्रो मे “बंगाल मोहिनी” मंत्र का बडा महत्व है और मोहिनी को प्रत्यक्ष करके जो लाभ मिलते है वह सिर्फ साधना करने से नही मिलते.मोहिनी सिद्धी से किसी को भी वश किया जा सकता है और इसके लिये कुछ खाने-पीने मे मंत्र अभीमंत्रीत करने की आवश्यकता नही है.जब साधक की मोहिनी सिद्ध हो जाये तो वह बैठे जगहा से ही व्यक्ती विशेष को अपने वश मे कर सकता है.मोहिनी को प्रत्यक्ष करने से वह जीवन भर साथ देती है और प्रत्येक कार्य को स्ययं संभव कर देती है.मोहिनी ही संपूर्ण जीवन का आधार है,मोहिनी सिद्धी से देवि/देवता तक वश मे हो जाते है तो सामान्य व्यक्ती को वश मे करना कोई कठिन कार्य नही है.स्वयम अनुभव करे और चिंतन करने का प्रयास करे फिर सोचिये “जीवन मे मोहिनी सिद्धी की कितनी आवश्यकता है”.यह आर्टिकल पढने के बाद बहोत सारे लोग चुराकर अपने सोशल नेटवर्किंग साईट पर डाल देगे या अन्य वेबसाईट पर डालेगे परंतु वह लोग आपको “बंगाल मोहिनी का प्रत्यक्षीकरण मंत्र” बताने मे असमर्थ है.हमारे साइट पर दीये गये सभी आर्टिकल का अपना एक अलग महत्व है.यहा सिर्फ प्रामानिक मंत्र साधना दी जाती है ताकी जनकल्याण हो सके. मै यह साधना कभी देना नही चाहता था परंतु आज हमारे महाराष्ट्र के किसान भाइ आत्महत्या के मार्ग पर चल रहे है जिसका मुख्य कारण है कर्ज और खराब फसल,तो उनके मदत हेतु हमारी संस्था कार्य कर रहि है.हम चाहते है आप भी उनकी कुछ मदत करे और पुण्य के भागी बने क्युके जब अन्नदाता ही नही रहेगा तो कोई भी व्यक्ती जीवन नही जी पायेगा.इसलिये हमने इस साधना के “मंत्र विधि-विधान” न्यौच्छावर राशी रखी हुयी है और न्यौच्छावर राशी आपके तरफ से मिलते ही आपको हमारी संस्था की और से उसकी रसीद भी प्राप्त होगी.यह रसीद आपको income tax मे छुट प्राप्त करने हेतु काम मे आयेगी और मोहिनी महाविद्या भी आपको प्रत्यक्ष सिद्ध होगी परंतु यह सब कुछ आपके विश्वास पर आधारित है.सफलता मिलना आसान उनके लिये होता है जिनमे धैर्य हो,साहस हो,जिद हो,मेहनत करने की तय्यारी हो और पूर्ण विश्वास हो तो येसे साधक के लिये कुछ भी असंभव नही है.जो व्यक्ती दान स्वरुप न्यौच्छावर राशी देगा उन्हेही “बंगाल मोहिनी” का मंत्र एवं गोपनिय विधान उपहार स्वरुप प्राप्त होगा.साधना आसान है परंतु किसिका अहित करने हेतु साधना ना करे,हा जीवन की आवश्यकताये पूर्ण करने हेतु साधना अवश्य करे.
हो सके तो कृपया लिंक शेयर करे परंतु आर्टिकल अपने स्वार्थ हेतु चोरी ना करे क्युकी यह गरीब किसानो के साथ धोका होगा.
मंत्र साधना हेतु हमसे सम्पर्क करिये और  मार्गदर्शन प्राप्त करे.मोहिनी विद्या अत्यन्त प्राचीन विद्या मे से एक है.प्रत्येक देवि/देवता,साधू-सन्यासी ने मोहिनी विद्या को सिद्ध किया है ताकी सबका आकर्षण तत्व बना रहे और अपने भक्तो के साथ वह सम्पर्क मे रहे.नवनाथ भत्कीसार नामक प्राचीन ग्रंथ मे एक किस्सा है जो मै यहा लिखना चाहुगा. एक बार गोरखनाथ जी और कानिफनाथ जी किसी वन प्रदेश मे बैठे थे,उस समय दोनो मे एक-दूसरे के ग्यान को जानने की जिग्यासा हुयी तो उस समय कानिफनाथ जी ने मोहिनी शक्ती का आवाहन किया और आकर्षण अस्त्र के प्रयोग से कुछ दूरी पर आम का पेड था,तो उसके आम आकर्षण शक्ती से तोडकर गोरखनाथ जी के सामने रख दिये,वो भी बिना आम को स्पर्श किये उन्होने यह कार्य किया था.
तो इस प्रकार से मोहिनी शक्ती से कई महान सिद्धो ने कार्य संपन्न किये है.
मोहिनी विद्या सिखने से आकर्षण,मोहन और वशीकरण जैसे कार्य संपन्न कर सकते है.
जो साधक मोहिनी विद्या सिखना चाहते है वह व्यक्ति मुझे इमेल से सम्पर्क किजिये.

इस विद्या मे पूर्ण सफलता मिलता है,सिर्फ आवश्यकता है तो अचुक मार्गदर्शन का जो मै आपको अवश्य ही करुगा.जीवन मे कई कठीनायिया आती है जिसमे आकर्षण शक्ती से आपको सहाय्यता मिल सकती है.
मै जानता हु मेरे सारे आर्टिकल आप अच्छेसे पढते है परंतु इस बार यह आर्टिकल आपके जीवन को बदलने मे पूर्ण सहाय्यक है.यह आर्टिकल सिर्फ इसी ब्लोग पर आपको पढने मिलेगा और किसी अन्य जगह यह पोस्ट होता है तो इसका कोई महत्व नही है क्युके मै सिर्फ ब्लोग पर लिखता हु फेसबुक पर नही.
इसिके साथ यह कामना करता हु,आप सभी को मोहिनी विद्या सिद्ध हो और आपका प्रत्येक कार्य सफल हो जाये